फॉरेंसिक साइंटिस्ट क्या होता है और फॉरेंसिक साइंटिस्ट कैसे बने ?

जब भी हम टाइम पर बेस्ट कोई मूवी देखते हैं यह सीरीज देखते हैं तो लगता है कि कभी-कभी ना मौका मिलना चाहिए कुछ ऐसी चीजों को सॉल्व करने का लेकिन उसके लिए दिमाग भी शार्प होना चाहिए। वैसे क्या आप किसी ऐसे प्रोफेशन की चाहत रखते हैं जिसमें आपको क्राइम सॉल्व करने का मौका मिले लेकिन इसके साथ आपका मन यह भी चाहता है कि आप साइंटिस्ट भी बने और इन दो अलग-अलग चाहतों में आप कंफ्यूज हो गए हैं तो आपके लिए बेस्ट प्रोफेशन हो सकता है फॉरेंसिक साइंटिस्ट का जिसमें आपके यह दोनों डिजाइन पूरे हो सकते हैं। हेना ग्रेट आइडिया?

तो चलिए आज फॉरेंसिक साइंस और फॉरेंसिक साइंटिस्ट बनने से जुड़ी जानकारी ही ले लेते हैं। वैसे फॉरेंसिक साइंटिस्ट का नाम सुनते ही आपको पता तो चल ही गया होगा कि जहां पर क्राइम है वहां फॉरेंसिक साइंस है और फिर फॉरेंसिक साइंटिस्ट के रोल को हमने कई पिक्चर और वेब सीरीज में काफी करीब से देखा भी है।

फॉरेंसिक साइंस साइंस का एक ऐसा डिसिप्लिन है जो क्राइम और उसके सबूतों को एनालाइज करने के लिए किया जाता है। और जब साइंस और टेक्नोलॉजी के एप्लीकेशन को क्राईम डिटेक्शन से कनेक्ट कर दिया जाता है तो यह फॉरेंसिक साइंस कहलाती है इसी वजह से यह जुडिशल सिस्टम का एक बहुत ही जरूरी हिस्सा बन चुकी है।

एक फॉरेंसिक साइंटिस्ट क्राइम से जुड़े हुए केस पर ही काम नहीं करता बल्कि सिविल केस पर भी काम करता है। यह एक मल्टीडिसीप्लिनरी सब्जेक्ट है जिसमें आप फिजिक्स केमिस्ट्री बायोलॉजी साइकोलॉजी बैलेस्टिक्स इंजीनियरिंग एंथ्रोपोलॉजी टॉक्सिकोलॉजी पैथोलॉजी साइबर क्राइम से सब्जेक्ट की स्टडी करेंगे।

फॉरेंसिक साइंस के कई सारे टाइप होते हैं जैसे कि डिजिटल फॉरेंसिक, फॉरेंसिक पैथोलॉजी फॉरेंसिक लिंग्विस्टिक फॉरेंसिक इंजीनियरिंग ब्लड स्टें पेटर्न एनालिसिस फॉरेंसिक साइकोलॉजी फॉरेंसिक टॉक्सिकोलॉजी फॉरेंसिक अकाउंटिंग फॉरेंसिक डीएनए फिंगरप्रिंटिंग और फॉरेंसिक केमिस्ट्री। अब अगर आपका भी इंटरेस्ट और पैशन एक फॉरेंसिक साइंटिस्ट बनने का है तो यह आर्टिकल आपको जरूर से पढ़ना चाहिए ताकि आपको पता चल सके कि फॉरेंसिक साइंटिस्ट का काम आखिर क्या होता है। एक फॉरेंसिक साइंटिस्ट बनने के लिए कौन से स्किल और एजुकेशन की जरूरत होती है, कौन से कॉलेज बेहतर पढ़ाई ऑफर करते हैं और रिक्रूटर और सैलरी पैकेज जैसी सारी महत्वपूर्ण जानकारी आपको इस आर्टिकल में मिलने वाली है इसलिए इस आर्टिकल को अंत तक जरूर पढ़ें।

फॉरेंसिक साइंटिस्ट क्या करता है ?

इन्वेस्टिगेशन प्रोसेस के दौरान सबूतों को इकट्ठा करना प्रिजर्व करना और साइंटिफिक तरीके से विश्लेषण करना फॉरेंसिक साइंटिस्ट का काम होता है। इसके लिए फॉरेंसिक साइंटिस्ट क्राइम सीन को विजिट करता है वाह से सबूतों को इकट्ठा करता है और मेडिकल लैबोरेट्री का यूज करके क्राइम के पीछे का सच सामने लाता है ऐसे में फॉरेंसिक साइंटिस्ट की जिम्मेदारी भी काफी बड़ी होती है जिसमें सिर्फ क्राइम सीन से सबूतों को इकट्ठा करना ही नहीं होता बल्कि सबूतों की कंप्रिहेंसिव रिपोर्ट तैयार करना जरूरी दस्तावेज के वैलिडिटी की ऑथेंटिसिटी, फ्लुइड सैंपल की टेस्टिंग करना, सबूतों पर लगे निशान और दाग के विश्लेषण करना, क्राइम सीन पर मिली डिवाइस और गैजेट से इंफॉर्मेशन को कलेक्ट करना और सबूतों के विश्लेषण के दौरान लीगल और एप्रोप्रियेट साइंटिफिक प्रोसीजर को अप्लाई करने जैसे सारे टास्क भी फॉरेंसिक साइंटिस्ट द्वारा ही किए जाते हैं।

ऐसे में फॉरेंसिक साइंटिस्ट में बहुत सारे स्किल्स का होना भी बहुत जरूरी है जैसे कि हाईली लॉजिकल माइंड, हर डिटेल पर अटेंशन, स्ट्रांग टेक्निकल स्किल, एनालिटिकल स्किल, कीन ऑब्जर्वेशन, साइंस के डिफरेंट फील्ड की नॉलेज एक्स्ट्रा ऑर्डिनरी रिटर्न और ऑरेटरी स्किल, प्रेशर में धैर्य से काम करने की कैपेबिलिटी, साइकोलॉजिकल स्ट्रेस को हैंडल करने की स्किल और अपने काम में डेडीकेशन और कॉन्फिडेंस।

फॉरेंसिक साइंटिस्ट कैसे बने ?

फॉरेंसिक साइंटिस्ट का रोल रिस्पांसिबिलिटी और स्किल जान लेने के बाद अब यह जानना बेहतर होगा कि अगर आप एक फॉरेंसिक साइंटिस्ट बनना चाहे तो इसके लिए आपको क्या-क्या करना होगा।

सबसे पहले तो आपको बैचलर डिग्री कंप्लीट करनी होगी यानी कि फॉरेंसिक लिए सबसे पहले आपको इस फील्ड की नॉलेज लेनी होगी जिसके लिए आपको डिग्री कंप्लीट करनी ही होगी। इसके लिए आप पहले बैचलर डिग्री लीजिए जैसे कि बीएससी फॉरेंसिक साइंस, जो कि 3 साल की ड्यूरेशन का बैचलर डिग्री कोर्स है और इसके सिलेबस में फॉरेंसिक पैथोलॉजी, साइकाइट्रिक, साइकोलॉजी, फॉरेंसिक मेडिसिन और ओडोनटोलॉजी जैसे मेडिकल कॉम्पोनेंट शामिल है।

ALSO READ  लाल डोरा जमीन क्या होती है ? - इसके फायदे और नुकसान| What is Lal Dora Land ?

इस कोर्स में एडमिशन के लिए आपका 10+2 क्लास में साइंस से पास होना अति आवश्यक है जिसमें आपको कम से कम 55% से पास हुए हो। इस कोर्स में एडमिशन मेरिट और एंट्रेंस दोनों ही तरीके से होता है जिनमें कुछ एंट्रेंस टेस्ट है DUET, KIITEE, SAAT, KSET, आदि।

कोर्स की फीस में भी आपको कॉलेज के अनुसार वेरिएशन मिलेगा लेकिन एवरेज कोर्स फीस की रेंज 30000 से 250000 तक रहती है। बैचलर डिग्री के साथ-साथ इंटर्नशिप अपॉर्चुनिटी भी ग्रैब कीजिए ताकि आपको थियोरेटिकल नॉलेज के साथ-साथ प्रैक्टिकल नॉलेज का भी अनुभव हो सके और इंडस्ट्री का एक्स्पोज़र भी मिल सके। और इतना एक्सपीरियंस तो मिलना है जो एक सूटेबल जॉब सर्च में हेल्पफुल रहे, इसके लिए आप प्राइवेट डिटेक्टिव एजेंसी, सेंट्रल गवर्नमेंट फॉरेंसिक साइंस लैब, हॉस्पिटल, पुलिस डिपार्टमेंट, और लॉ फर्म्स में इंटर्नशिप ले सकते हैं।

बैचलर डिग्री के बाद फॉरेंसिक साइंस फील्ड में ले सकते हैं लेकिन अगर आप फरदर स्टडी का इरादा रखते हैं मिलने वाले करियर ऑप्शन और पोजीशन ज्यादा फेवरेबल हो सकते हैं। इसलिए अगर आप चाहे तो इसमें मास्टर डिग्री भी ले सकते हैं। जैसे M.SC इन फॉरेंसिक साइंस, जो कि 2 साल का पोस्टग्रेजुएट कोर्स है यह कोर्स कैंडिडेट को फॉरेंसिक साइंस में प्रोफेशनल रोल्स के लिए प्रिपेयर करता है। इस कोर्स मैं एडमिशन के लिए आपके पास साइंस इंजीनियरिंग फार्मेसी और मेडिसिन में से किसी भी एरिया में बैचलर डिग्री होनी जरूरी है और ग्रेजुएशन लेवल पर 60% इसको होना भी।

फॉरेंसिक साइंटिस्ट के लिए बेस्ट कॉलेज?

इस कोर्स में एडमिशन एंट्रेंस एग्जाम के बेस पर होता है और इसकी एवरेज फीस 20000 से ₹200000 तक होती है। इंडिया के दिन कॉलेज से आप यूजी और पीजी कोशिश कर सकते हैं वह है –

  • Lady Hardinge Medical College नई दिल्ली
  • All India Institute of Medical Sciences, New Delhi
  • The Institute of Forensic Science, Mumbai
  • National Institute of Criminology and Forensic Science नई दिल्ली
  • National Forensic Sciences University, formerly Gujarat Forensic Science University, is a central university in Gandhinagar, Gujarat
  • Lovely Professional University is a private university located in Chaheru, Phagwara, Punjab, India
  • Shree Guru Gobind Singh Tricentenary University, commonly called SGT University, is located in Budhera, Gurugram district, Haryana
  • Amity University, Gurugram
  • Gujarat University, अहमदाबाद
  • Galgotias University, नोएडा
ALSO READ  टाइम मैनेजमेंट क्या होता और है टाइम मैनेजमेंट से सफलता कैसे प्राप्त करें ? What is Time Management and How to Get Success from Time Management ?

इसके बाद आप चाहे तो डॉक्टर ऑफ फिलॉसफी इन फॉरेंसिक साइंस, डॉक्टर ऑफ फिलॉसफी इन एनालिटिकल केमेस्ट्री, और डॉक्टर ऑफ फिलॉसफी इन क्रिमिनोलॉजी भी कर सकते हैं।

फॉरेंसिक साइंस में सर्टिफिकेट डिप्लोमा और पोस्ट ग्रैजुएट डिप्लोमा कोर्स भी ऑफर किए जाते हैं, इसलिए आप इनका एडवांटेज लेकर भी अपनी नॉलेज को बढ़ा सकते हैं।

फॉरेंसिक साइंटिस्ट की जॉब कहां लगती है ?

हम बात करें जॉब एक्सप्लोर करने की तो डिग्री और इंटर्नशिप कंप्लीट करने के बाद आप अपने लिए एक सूटेबल जॉब एक्सपेक्ट कर सकते हैं। हालांकि इस कॉम्पिटेटिव वर्ल्ड में आपकी स्किन और प्रैक्टिकल नॉलेज आपकी काफी हद तक मदद कर सकती है इसलिए अपनी स्किल्स को भी बढ़ाना ना भूले और उसके बाद फॉरेंसिक साइंटिस्ट की जॉब के लिए अप्लाई कर दें। इसके लिए आप सीबीआई गवर्नमेंट फॉरेंसिक लैबोरेट्री, इनकम टैक्स डिपार्टमेंट, इंटेलिजेंस ब्यूरो के अलावा हॉस्पिटल्स, पुलिस डिपार्टमेंट, लॉ फर्म, प्राइवेट डिटेक्टिव एजेंसी, क्वालिटी कंट्रोल ब्यूरो में भी अप्लाई कर सकते हैं। हालांकि आप खुद का भी प्राइवेट फॉरेंसिक सर्विस ऑफिस भी खोला जा सकता है।

आपको बता दें कि इस प्रोफाइल के अलावा आप फॉरेंसिक पैथोलॉजिस्ट, क्राइम सीन एग्जामिनर, फॉरेंसिक आईटी स्पेशलिस्ट, क्राइम लैबोरेट्री एनालिस्ट, और फॉरेंसिक साइकोलॉजिस्ट की प्रोफाइल के लिए भी अप्लाई कर सकते हैं।

फॉरेंसिक साइंटिस्ट की सैलेरी कितनी होती है ?

बात करें सैलरी पैकेज की तो एक फॉरेंसिक साइंटिस्ट सात से आठ लाख पर सैलरी गिन कर सकता है। यह सैलेरी पैकेज स्टेट या सेंट्रल गवर्नमेंट के अंदर या प्राइवेट फर्म के अंदर काम करने के अनुसार अलग हो सकता है, और एक प्रेशर के तौर पर यह सैलरी पैकेज तीन से चार लाख पर एनम से शुरू हो सकता है।

तो दोस्तों इस तरह आप प्रॉपर एजुकेशन और इंटर्नशिप लेकर अपने लिए बेहतर अवसर की प्राप्ति के सारे दरवाजे खोल सकते हैं। लेकिन आपको अपने गोल पर फोकस करना है और हार नहीं माननी है। और फिर जिस प्रोफेशन के लिए आप इतनी मेहनत कर ही चुके हैं उसमें तो वैसे भी फुल अटेंशन और डेडीकेशन की जरूरत होगी इसलिए अपनी तैयारी में कोई कसर मत छोड़िए गा।

Leave a Comment

Neeraj Chopra: नीरज चोपड़ा की वजह से भारत को पहली बार मिले ये पदक, जापान से लेकर अमेरिका तक किया कमाल इन 6 आदत वालों को कभी परेशान नहीं करते हैं शनि देव कहीं बर्बादी की दिशा में तो नहीं खुलता आपके घर का दरवाजा? जानें क्या कहता है वास्तु शास्त्र Chanakya Niti: इन 4 जगहों पर पैसा खर्च करने में कभी नहीं करनी चाहिए कंजूसी सोमवार को इस एक गलती से नाराज हो सकते हैं भगवान शिव, जानें प्रसन्न करने का उपाय