LIC 20 Year Money Back 920 Plan in Hindi | एलआईसी मनी बैक 920 प्लान हिंदी में

नमस्कार दोस्तों, आज हम बात करेंगे एलआईसी के प्लान LIC 20 Year Money Back 920 Plan के बारे में जिसका प्लान नंबर है 920

LIC 20 Year Money Back 920 Plan के कुछ खास बातें –

  • एलआईसी ने इसको 1 फरवरी 2020 को लांच किया था।
  • यह एक नॉन लिंक्ड प्लान है, इसका मतलब यह शेयर मार्केट के रिस्क से जुड़ा हुआ नहीं है।
  • साथ ही साथ यह एक विद प्रॉफिट प्लान है जिसका मतलब एलआईसी अपने फाइनैंशल परफॉर्मेंस के अनुसार अपने प्रॉफिट को पॉलिसी होल्डर के साथ बोनस के रूप में बांटती है।
  • यह एक लिमिटेड प्रीमियम प्लान है इसका मतलब आप जितने साल की पॉलिसी लेते हैं उससे कुछ कम सालों तक ही आपको पैसा देना होता है।
  • यह 20 साल का प्लान है और इसमें आपको केवल 15 वर्ष तक ही प्रीमियम का भुगतान करना है।

LIC 20 Year Money Back 920 Plan को लेने के लिए पात्रता –

उम्र – इस पॉलिसी को 13 वर्ष से लेकर 50 वर्ष तक के व्यक्ति ले सकते हैं, अर्थात 50 वर्ष से अधिक उम्र के व्यक्ति इस पॉलिसी को नहीं ले सकते और 13 वर्ष से कम उम्र के व्यक्ति भी इस पॉलिसी को नहीं ले सकते।

ALSO READ  LIC Dhan Varsha Plan 866 Details In Hindi - एलआईसी धन वर्षा 866 प्लान की जानकारी हिंदी में

पॉलिसी टर्म – यह पॉलिसी पूरे 20 साल की है।

प्रीमियम पेमेंट टर्म – इस पॉलिसी में आपको 15 वर्ष तक प्रीमियम का भुगतान करना है।

मेचूरिटि एज – मेच्योरिटी इसमें 70 वर्ष की दी गई है। जिसका मतलब आपकी उम्र और पॉलिसी टर्म दोनों का टोटल मिलाकर 70 से ज्यादा नहीं होना चाहिए।

बीमित राशि – अगर आप इस पॉलिसी को लेना चाहते हैं तो आपको कम से कम ₹1,00,000 की बीमा राशि लेनी होगी और ज्यादा से ज्यादा कितने भी रुपए तक की बीमित राशि ले सकते हैं।

LIC 20 Year Money Back 920 Plan में कौन-कौन से राइडर्स हैं ?

दोस्तों राइडर्स का मतलब होता है बेनिफिट्स, जो हम पॉलिसी लेते समय अपनी पॉलिसी में ऐड करवाते हैं। यह सब एक्स्ट्रा बेनिफिट होते हैं जो हमें अलग से ऐड करवाने होते हैं और जिन को ऐड करवाने के बाद हमारा प्रीमियम भी बढ़ जाता है।

इस पॉलिसी के अंतर्गत 4 राइडर्स उपलब्ध है –

  1. Accidental Death And Disability Rider
  2. Accident Benefit Rider
  3. New Term Insurance Rider
  4. New Critical illness Benefit Rider
LIC 20 Year Money Back Plan 920 in Hindi | एलआईसी मनी बैक प्लान 920 हिंदी में
LIC 20 Year Money Back 920 Plan in Hindi | एलआईसी मनी बैक प्लान 920 हिंदी में

LIC 20 Year Money Back 920 Plan में ग्रेस पीरियड कितना है ?

ग्रेस पीरियड का मतलब होता है प्रीमियम भरने के लिए एक्स्ट्रा टाइम। अगर आप प्रीमियम भरने में देरी कर देते हैं तो एलआईसी आपको कुछ एक्सट्रा समय देती है और आपके बेनिफिट्स भी चलते रहते हैं। अगर इस ग्रेस पीरियड के दौरान पॉलिसी होल्डर की डेथ हो जाती है तो ग्रेस पीरियड के दौरान डेथ बेनिफिट मिलता है।

ग्रेस पीरियड इस बात पर निर्भर करता है कि आपने कौन सा प्रीमियम मोड चुना है ।अगर आपने मंथली मोड चुना है तो आपको प्रीमियम भरने के लिए 15 दिन एक्स्ट्रा मिलेंगे। और अगर आपने ईयर ली, हाफ इयरली या क्वार्टर ली मोड चुना है तो आपको 30 दिन का एक्स्ट्रा टाइम मिल जाता है।

ALSO READ  LIC Aadhar Stambh 943 Plan Details in Hindi | LIC आधार स्तम्भ 943 प्लान की हिंदी में जानकारी

LIC 20 Year Money Back 920 Plan में रिवाइवल पीरियड कितने साल का है ?

रिवाइवल का मतलब होता है बंद पॉलिसी को फिर से चालू करना। अगर आप किसी कारण पॉलिसी का प्रीमियम नहीं जमा करवा पाते तो आप की पॉलिसी बंद हो जाती है और इस बंद पॉलिसी को आप 5 साल के अंदर अंदर लेट फीस देकर फिर से चालू करवा सकते हो।

LIC 20 Year Money Back 920 Plan में पेड अप वैल्यू क्या होता है ?

यह इस पॉलिसी का एक बहुत ही अच्छा बेनिफिट है जिसके अंतर्गत अगर पॉलिसी होल्डर 2 साल तक प्रीमियम का भुगतान कर देता है और उसके बाद किसी भी कारण से अगर वह प्रीमियम का भुगतान ना कर पाए तो भी इस पॉलिसी की कवरेज खत्म नहीं होती बल्कि घटे हुए sum assured के साथ चलती रहती है।

अगर आप अपनी पॉलिसी किसी कारणवश नहीं भर पा रहे हैं तो उसको बंद करने से पहले उसकी पेडअप वैल्यू की जानकारी जरूर ले ले।

LIC 20 Year Money Back 920 Plan में सरेंडर कब करवा सकते हैं ?

2 वर्ष का प्रीमियम देने के बाद आप इस पॉलिसी को सरेंडर करवा सकते हैं। लेकिन इस बात का ध्यान रखें कि जब भी आप पॉलिसी को सरेंडर करेंगे आपको हमेशा नुकसान ही होगा। इसलिए पॉलिसी लेते समय उतने ही प्रीमियम वाली पॉलिसी चुने जिसको भरने में आपको दिक्कत ना हो।

LIC 20 Year Money Back 920 Plan में लोन कब ले सकते है ?

अगर आपको लोन लेना है तो 2 वर्ष का प्रीमियम भुगतान करने के बाद आप इस पॉलिसी में लोन ले सकते हैं। लोन का अमाउंट इस बात पर निर्भर करता है कि पॉलिसी कितने साल चली है और उसकी सरेंडर वैल्यू क्या है।

LIC 20 Year Money Back 920 Plan टैक्स बेनिफिट

इस पॉलिसी के अंतर्गत जो प्रीमियम का भुगतान होता है वह इनकम टैक्स सेक्शन 80C के अंदर exempted है।

ALSO READ  LIC Jeevan Anand 915 Plan Details in Hindi | LIC जीवन आनंद 915 प्लान पूरी जानकारी

इसी के साथ साथ डेथ बेनिफिट और मेच्योरिटी बेनिफिट भी इनकम टैक्स के सेक्शन 10(10d) के अंतर्गत बिल्कुल टैक्स फ्री है।

LIC 20 Year Money Back 920 Plan का उदाहरण –

मिस्टर रमेश जिनकी उम्र 25 वर्ष है उन्होंने यह मनी बैक पॉलिसी 5,00,000 की बीमित राशि के लिए ली है। पॉलिसी उनको 20 वर्ष के लिए मिलेगी और उन्हें 15 वर्ष तक प्रीमियम का भुगतान करना होगा। यदि वह ईयर ली प्रीमियम देते हैं तो उनका प्रीमियम ₹37,722 होगा और यदि वह मंथली मोड का चुनाव करते हैं तो है उनका प्रीमियम 3,211 रुपए होगा।

इस प्रकार मिस्टर रमेश पूरे पॉलिसी पीरियड के दौरान ₹5,66,660 प्रीमियम के रूप में देंगे।

सर्वाइवल बेनिफिट के रूप में मिस्टर रमेश को पॉलिसी के 5 वर्ष बाद बीमित राशि का 20% यानी ₹1 लाख मिलेंगे, उसी प्रकार 10 वर्ष बाद फिर से ₹1 लाख मिलेंगे, और 15 वर्ष में फिर से बीमित राशि का 20% यानी ₹1 लाख मिलेंगे।

यानी मनी बैक के रूप में मिस्टर रमेश को टोटल ₹3 लाख मिलेंगे। और 20 साल बाद मिस्टर रमेश को मेचूरिटि का भुगतान हो जाएगा जिसमें उन्हें ₹6,10,000 मिलेंगे, इसके अंदर बीमित राशि का 40 परसेंट होगा और बाकी का बोनस।

पॉलिसी लेने से लेकर पॉलिसी खत्म होने तक कभी भी मिस्टर रमेश के साथ कोई दुर्घटना होती है तो परिवार को डेथ बेनिफिट का भुगतान होता है। तो इस उदाहरण में अगर मिस्टर रमेश के साथ अनहोनी होती है तो परिवार को बीमित राशि का 125% यानी ₹6,25,000 मिलेंगे और साथ में बोनस भी। इसका अमाउंट इस बात पर निर्भर करेगा कि पॉलिसी कितने समय चली है क्योकि पॉलिसी जितने ज्यादा समय तक चलेगी बोनस का अमाउंट भी उतना ही ज्यादा होगा।

यदि मिस्टर रमेश के साथ अनहोनी 15 वर्ष के बाद होती है तो परिवार को फाइनल एडिशनल बोनस भी मिलेगा। यानी परिवार को दो प्रकार के बोनस मिलेंगे।

एलआईसी के नए प्लांस देखने के लिए यहां क्लिक करें

Leave a Comment

Neeraj Chopra: नीरज चोपड़ा की वजह से भारत को पहली बार मिले ये पदक, जापान से लेकर अमेरिका तक किया कमाल इन 6 आदत वालों को कभी परेशान नहीं करते हैं शनि देव कहीं बर्बादी की दिशा में तो नहीं खुलता आपके घर का दरवाजा? जानें क्या कहता है वास्तु शास्त्र Chanakya Niti: इन 4 जगहों पर पैसा खर्च करने में कभी नहीं करनी चाहिए कंजूसी सोमवार को इस एक गलती से नाराज हो सकते हैं भगवान शिव, जानें प्रसन्न करने का उपाय