सुकन्या समृद्धि योजना में कौन खाता खुलवा सकता है ?

वह परिजन जिनकी बेटी की आयु 1 दिन से लेकर 10 साल तक है वह इस योजना में अपना खाता खुलवा सकते है अगर बेटी की उम्र 10 साल से अधिक है तो वह इस योजना में खाता नहीं खुलवा सकते। इस योजना में एक अभिभावक अपनी दो से ज्यादा बेटियों के लिए खाता नहीं खुलवा सकते।

सुकन्या समृद्धि योजना के फायदे –

तो दोस्तों सबसे पहले अपने देश में यह है कि इस योजना के तहत आपको आपके जमा किए हुए पैसों पर 7.60% का ब्याज मिल जाता है। सेविंग्स बैंक अकाउंट पर आपको आजकल 2.5 से 3% का ही डिस्काउंट मिलता है वहीं अगर हम फिक्स डिपाजिट भी करवाते हैं तो भी उस पर हमें 5 से 5.5% का ही ब्याज मिलता है। वही सब को हटाकर अगर हम सुकन्या समृद्धि योजना को देखें तो इसमें हमें सबसे ज्यादा ब्याज मिलता है।

सुकन्या समृद्धि योजना में कौन कौन से डॉक्यूमेंट लगेंगे ?

दोस्तों अगर आप सुकन्या समृद्धि योजना में खाता खुलवाना चाहते हो तो इसको आप किसी भी बैंक या पोस्ट ऑफिस से खुलवा सकते हैं क्योंकि यह अकाउंट ऑनलाइन ओपन नहीं होता है। आप इस अकाउंट को किसी भी बैंक से खुलवा सकते हैं चाहे वह सरकारी बैंकों या फिर प्राइवेट। डॉक्यूमेंट की बात करें तो हमें बेटी का जन्म प्रमाण पत्र यानी कि बर्थ सर्टिफिकेट देना होगा। अपना यानी कि अभिभावक का आधार कार्ड देना होगा। साथ में जिस बेटी के लिए आप खाता खुलवा रहे हैं उसका आधार कार्ड भी आपको देना होगा।

सुकन्या समृद्धि योजना काम कैसे करती है ?

यह अकाउंट काम करेगा 15 सालों के लिए यानी कि इसमें आपको 15 साल तक पैसे जमा करवाने होंगे और आगे के 6 साल तक इसमें आपको कोई पैसा जमा नहीं करना क्योंकि यह योजना टोटल 21 सालों की है। इस खाते को चालू रखने के लिए आप को कम से कम साल में ₹250 जमा करना जरूरी है और ज्यादा से ज्यादा आप 1 साल में ₹150000 जमा करवा सकते हैं। यानी कि इस 21 साल की इस योजना में आपको 15 सालों तक पैसे जमा करने हैं और उसके बाद आगे के 6 सालों तक आपको कोई पैसा जमा नहीं करना और जब इस खाते को (15+6) 21 साल हो जाएंगे तो आपको मैच्योरिटी अमाउंट मिल जाएगा।

सुकन्या समृद्धि योजना की कमियां –

अगर कोई अभिभावक अपनी 10 साल की बेटी के लिए यह खाता खुल जाता है तो उसको यह अकाउंट 21 साल तक चलाना होगा यानी कि जब उनकी बेटी 31 साल की हो जाएगी तब तक।

क्या सुकन्या समृद्धि योजना मैं बीच में पैसे निकाल सकते हैं ?

सरकार का कहना है कि आप सुकन्या समृद्धि योजना में बीच में तभी पैसे निकाल सकते हैं जब आपकी बेटी की उम्र 18 साल हो गई हो और आपको या तो उसकी शादी के लिए या उसकी हायर एजुकेशन के लिए पैसा चाहिए हो। इसमें भी आप सारा पैसा नहीं निकाल सकते बल्कि जितना आपने जमा किया है उसका 50 परसेंट ही निकाल सकते हैं।

अगर बच्ची के माता-पिता की मृत्यु हो जाए तो क्या होगा ?

तो यहां पर हमें सरकार दो ऑप्शन देती है – पहला तो यह कि माता-पिता के ना रहने पर बच्ची अपना खाता बंद करवा कर अपना पैसा निकलवा सकती है जो कि उसे पूरे ब्याज के साथ मिलेगा। दूसरा की बच्ची खाते को बंद ना करवा कर इसको पूरे 21 साल तक चलाएं जिसमें उसे जमा कराए हुए पैसों का 21 साल का ब्याज और मूल राशि मिल जाएगी। उदाहरण के लिए अगर बच्ची के पिता ने 5 साल तक पैसे जमा कराए और 5 साल बाद उनकी मृत्यु हो जाती है तो बच्ची इस खाते को पूरे 21 साल तक चला कर जमा कराए हुए पैसों को 21 साल बाद ब्याज के साथ निकाल सकती है जिसे हम मैच्योरिटी अमाउंट भी बोलते हैं।